Bivas
साइबर क्राइम | PREVENT CYBER CRIME | साइबर कानून | CYBER LAW IN INDIA
Bivas Chatterjee 27 Jul 2020

साइबर क्राइम | PREVENT CYBER CRIME | साइबर कानून | CYBER LAW IN INDIA

साइबर अपराधों से कैसे बचें ?


आज के कंप्यूटर, स्मार्टफोन, इन्टनेट आदि की दुनिया में हर समय हम साइबर दुनिया से घिरे रहते हैं। इस स्थिति में अगर हम साइबर दुनिया के बुरे प्रभावों के बारे में नहीं जानते हैं तो हम लोग धोखा खा जाएंगे। हमें साइबर दुनिया के नकारात्मक प्रभावों को जानना चाहिए और साथ में हमें अपने देश के साइबर कानूनों को भी जानना चाहिए। 

 

साइबर दुनिया कैसी है?

बहुत से लोग सोचते हैं कि साइबर दुनिया या इंटरनेट की दुनिया एक कानूनविहीन दुनिया है। लेकिन यह सही नहीं है। दुनिया के किसी भी हिस्से की तरह हमारे देश में भी अपने साइबर कानून हैं। हमारे देश में स्मार्टफोन के उपयोग में वृद्धि के साथ, फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर आदि का उपयोग भी बढ़ रहा है | भारत शायद दुनिया का दूसरा या तीसरा सबसे बड़ा इंटरनेट उपयोगकर्ता देश है। जितना अधिक हम साइबर दुनिया से घिरे रहेंगे, उतने विभिन्न प्रकार के साइबर अपराध विकसित होंगे। यही कारण है कि हर भारतीय को साइबर दुनिया के अच्छे और बुरे पक्ष के बारे में जागरूकत होनी चाहिए । मुझे लगता है प्रत्येक भारतीय को भारत के साइबर कानून पर बुनियादी ज्ञान होना चाहिए।

 

हमें साइबर कानून क्यों पढ़ना चाहिए?

Statista के अनुसार 2019 में, भारतीय ऑनलाइन बाजार दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा ऑनलाइन बाजार था। 2018 में भारतीय में 480 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ता थे। भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं का प्रमुख हिस्सा युवा पीढ़ी के लोग हैं। इकॉनमिक समय की रिपोर्ट के अनुसार, इंटरनेट उपयोगकर्ताओं के संदर्भ में, चीन के बाद भारत दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट उपयोगकर्ता है। विकिपीडिया के अनुसार, भारत में साइबर अपराध की संख्या 300% तक बढ़ गई है। 

 

भारत में साइबर कानून: भारत में साइबर कानून निम्नलिखित हैं -

Ø सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000

Ø सूचना प्रौद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम, 2008 

 

साइबर संबंधी या अन्य जुड़े हुए कानून:

1.   भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872

2.   आपराधिक प्रक्रिया कोड, 1973

3.   भारतीय दंड संहिता, 1860

4.   कॉपी राइट एक्ट, 1957

5.   बैंकर बुक ऑफ एविडेंस अधिनियम।

आज से पचास साल पहले, जब अमेरिकी सैन्य अनुसंधान संस्थान की उन्नत अनुसंधान परियोजनाओं एजेंसी (ARPA) ने संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रयोगात्मक रूप से इंटरनेट प्रणाली को जन्म दिया था, तो क्या किसी ने सोचा था कि यह जल्द ही विज्ञान के असंख्य आशीर्वाद की तरह एक सामाजिक अभिशाप बन जाएगा ?

 

साइबर दुनिया कैसी है ?

इंटरनेट एक कानूनविहीन आभासी दुनिया है | कंप्यूटर, मोबाइल, स्मार्टफोन इत्यादि के बड़े पैमाने पर उपयोग के साथ, आज किसी न किसी दिन हम इस आभासी दुनिया में प्रवेश करते हैं और हम में से कई लोग इस सर्वव्यापी अवरोधक दुनिया के हानिकारक पहलुओं से अनजान हैं।

 

जैसे-जैसे मोबाइल फोन का उपयोग बढ़ता है, वैसे-वैसे इंटरनेट का उपयोग भी बढ़ता है, और इसलिए भारत में फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम का उपयोग बढ़ राहा है। जितने अधिक लोग साइबर दुनिया में घूमते हैं, उतनी ही यह अजीब दुनिया नए अपराधों को जन्म देगी। इस काल्पनिक या आभासी दुनिया और यहां होने वाले विभिन्न अपराधों के बारे में सभी को अच्छी जानकारी होनी चाहिए |

 

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट : 

वर्तमान में सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट हर देश में बहुत लोकप्रिय हैं। ये लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट दुनिया भर के कई देशों द्वारा अपने लोगों को उनके काम को बढ़ावा देने के लिए उपयोग किया जाता है। विभिन्न सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट जयसे के लिंक्डइन, फेसबुक, ट्विटर में से एक सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट भी है। हालाँकि विभिन्न सामाजिक नेटवर्किंग वेबसाइटों के कई अच्छे पहलू हैं, आजकल विभिन्न सामाजिक अपराध उनके माध्यम से होते हैं। भारतीय साइबर अधिनियम यानी सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 और सूचना प्रौद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम, 2008 और इसके बाद के विभिन्न नियम इस संबंध में कानूनी सहायता प्रदान करते हैं या ऐसे साइबर अपराधों की जांच में जांच अधिकारियों की सहायता करते हैं। इसके अलावा, भारतीय साक्ष्य अधिनियम, आपराधिक प्रक्रिया संहिता और भारतीय दंड संहिता भी इस संबंध में मदद करेंगे। 

 

भारत सरकार ने इन सामाजिक नेटवर्किंग वेबसाइटों के संचालन को विनियमित करने के लिए नियम बनाए हैं, जैसे –

 

  • सूचना प्रौद्योगिकी (प्रक्रिया और सार्वजनिक लोगों द्वारा सूचना के उपयोग के लिए अवरोधक के लिए सुरक्षा उपाय) नियम, 2009(Information Technology (Procedure and Safeguards for Blocking for Access of Information by Public) Rules, 2009 |
  • सूचना प्रौद्योगिकी (बिचौलिये दिशानिर्देश) नियम, 2011।(Information Technology (Intermediaries guidelines) Rules, 2011.)
  • सरकारी संगठनों के लिए सोशल मीडिया के उपयोग के लिए रूपरेखा और दिशानिर्देश (Framework & Guidelines for use of Social Media for Government Organisations)|
  • सूचना प्रौद्योगिकी (उचित सुरक्षा प्रथाओं और प्रक्रियाओं और संवेदनशील व्यक्तिगत डेटा या जानकारी) नियम, 2011 (Information Technology (Reasonable security practices and procedures and sensitive personal data or information) Rules, 2011.) |

 

साइबर अपराधों से खुद को सुरक्षित रखने के लिए कुछ तरीके और तकनीक निम्नलिखित हैं :

  • सबसे पहले, अगर हमारे पास ऐसी कोई शिकायत है, तो हम इसे निकटतम पुलिस स्टेशन को रिपोर्ट कर सकते हैं।
  • आज भारत के विभिन्न हिस्सों में साइबर पुलिस स्टेशन हैं। अगर कोई साइबर पुलिस स्टेशन नहीं है तो आप अपने स्थानीय पुलिस स्टेशन के समक्ष शिकायत दर्ज कर सकते हैं।
  • यदि कोई अश्लील मेल या पोस्ट आपके पास आता है, तो उस मेल या पोस्ट का एक प्रिंट निर्दिष्ट पुलिस स्टेशन में शिकायत के साथ दें और आपत्तिजनक साइट का URL/Link जांच अधिकारी को प्रदान करें।
  • आपको किसी भी ऑनलाइन डेटा को नष्ट नहीं करना चाहिए जिसका उपयोग जांच में किया जा सकता है।
  • जांच अधिकारी को पारंपरिक साक्ष्य के साथ नई तकनीक और सूचना पर जोर देना चाहिए। यदि आवश्यक हो, तो जांच अधिकारियों को फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए।
  • थाने में शिकायत दर्ज कराने के अलावा, यदि आप सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की किसी भी धारा के तहत अपराध के शिकार होते हैं, तो आप 5 करोड़ तक के मुआवजे के लिए एडजूडिकेटर के पास आवेदन कर सकते हैं। एडजूडिकेटर राज्य के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग का सचिव होता है।
  • सूचना प्रौद्योगिकी नियम 2009 के अनुसार, एक व्यक्ति, जनता द्वारा या एक नोडल अधिकारी के माध्यम से सूचना तक पहुँच को उसको बंद करने के लिए या रोकने के लिए उपयुक्त प्राधिकारी के पास शिकायत दर्ज कर सकता है।
  • ध्यान रखें कि इंटरनेट पर 60 प्रतिशत जानकारी पोर्नोग्राफी से संबंधित है, इसलिए साइबर कानून विशेषज्ञों के अनुसार, भारतीय महिलाएं और बच्चे साइबर अपराधियों का मुख्य निशाना हैं | इसलिए आपको फेसबुक आदि पर घूमते हुए सावधान रहना होगा।
  • परिचितों के सर्कल के बाहर दोस्तों के साथ सूचना का आदान-प्रदान किया जाना और नाबालिगों के मामले में घर के अभिभावकों द्वारा अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए।
  • URL http से शुरू होने वाली ऑनलाइन साइटों से बचें और केवल उन साइटों का उपयोग करें जो कि https से शुरू होता है |
  • मोबाइल एप्लिकेशन इंस्टॉल और उपयोग करते समय सावधानी बरतें |
  • कोई भी बैंक या वित्तीय संस्थान आपसे फोन पर आपके व्यक्तिगत डेटा के लिए कभी नहीं पूछेगा |
  • यदि कोई आपको फोन पर यह कहते हुए बुलाता है कि वह किसी बैंक का प्रतिनिधित्व कर रहा है और ओटीपी या कोई डेटा मांगता है, तो सोचें कि यह एक धोखा है और उन्हें कोई डेटा प्रदान नहीं करें |
  • यदि कोई भी धोखेबाज़ व्यक्ति आपको पेटीएम के नाम से फोन करता है और आपसे अनुरोध करता है कि आप अपने मोबाइल में कोई भी ऐप डाउनलोड करें और अपग्रेडेशन के लिए उसे कोई भी डेटा दें, तो सोचें कि यह धोखाधड़ी है |
  • आपको बेवकूफ बनाने के लिए विभिन्न फ़िशिंग हमलों से सावधान रहें |
  • उचित ज्ञान के बिना किसी भी अज्ञात लिंक पर क्लिक न करें |
  • अपना ऑनलाइन पासवर्ड बार-बार बदलने का प्रयास करें |
  • आपके पासवर्ड में अक्षर, संख्या, विशेष वर्ण होना चाहिए। किसी भी शब्दकोश में पाए गए किसी भी शब्द का उपयोग न करें क्योंकि वह अपराधी को आपके पासवर्ड और आपके महत्वपूर्ण ऑनलाइन खाते को आसानी से हैक करने में मदद करता है |
  • अपने नेटबैंकिंग डेटा को सुरक्षित रखें मोबाइल और अपने मोबाइल, कंप्यूटर आदि के लिए के लिए एक शक्तिशाली एंटीवायरस का उपयोग करें |
  • पायरेटेड सॉफ्टवेयर के उपयोग से बचें |
  • ऐसे एटीएम से बचें, जिनमें सुरक्षा गार्ड न हों |
  • कभी भी ऑनलाइन दुनिया में किसी जाल, ऑनलाइन योजना या लॉटरी या झूठा वादा में न पड़ें |

साइबर अपराध पर ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने के लिए निम्नलिखित राष्ट्रीय पोर्टल महत्वपूर्ण है: 


National Cyber Crime Reporting Portal

                          

भारत में प्रचलित 1500 से अधिक भाषाओं में से, हिंदी एक प्रमुख भारतीय भाषा है | यही कारण है कि लंबे समय से मैं साइबर कानून पर एक मोबाइल ऐप हिंदी में ले आने के लिए सोच रहा था, ताकि भारत के हिंदी बोलने वाले सबसे दूरस्थ हिस्से में लोग, इस महत्वपूर्ण विषय साइबर अपराधों और साइबर कानूनों को जान सके | साइबर अपराध से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों में आगे के अध्ययन के लिए कृपया Google Playstore से मुफ्त में मोबाइल ऐप "साइबर लॉ इन हिंदी" हिंदी में साइबर कानून (Cyber Law App in Hindi) इंस्टॉल करें | इस विज्ञापन मुक्त ऐप में मैंने यह समझाने की कोशिश की है कि भारत में मौजूदा साइबर कानून क्या है। एक गैर-हिंदी भाषी व्यक्ति होने के वाद भी, मैंने पूरी कोशिश की है कि यह भारत में हिन्दी भाषा समुदाय के लोगों के लिए मददगार हो सके। इस ऐप में, मैंने बस हिन्दी भाषा में अनुवाद करके साइबर कानून को सभी के लिए आसान बनाने की कोशिश की है |

अगर मेरे प्रयासों से आपको साइबर अपराध के खिलाफ जागरूक करने में सफलता मिलती है, तो मैं खुद को कृतज्ञ और संतुष्ट समझूंगा।


My Blog Post @ Cyber Chatterjee


हिंदी में साइबर कानून (Video)


Did you find this write up useful? YES 0 NO 0
Send
Featured Members view all

New Members view all

×

C2RMTo Know More

Something Awesome Is In The Work

0

DAYS

0

HOURS

0

MINUTES

0

SECONDS

Sign-up and we will notify you of our launch.
We’ll also give some discount for your effort :)

* We won’t use your email for spam, just to notify you of our launch.